Chardham Yatra Uttarakhand : चार धाम यात्रा

Pragati

Chardham yatra Uttarakhand : चार धाम यात्रा

  • केदारनाथ मंदिर
  • बद्रीनाथ या बद्रीनारायण मंदिर
  • गंगोत्री
  • यमुनोत्री

केदारनाथ मंदिर :

Chardham yatra : उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित केदारनाथ मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। कत्यूरी शैली में पत्थरों से निर्मित यह मंदिर वास्तुकला का अद्भुत नमूना है। माना जाता है कि केदारनाथ मंदिर का निर्माण पांडवों के वंशजों द्वारा द्वापर युग में किया गया था। मान्यता यह भी है कि द्वापर काल में बना मंदिर क्षतिग्रस्त हो गया था जिसके बाद आठवीं शताब्दी में आदि शंकराचार्य द्वारा मंदिर का जीर्णोद्धार कराया गया।

Chardham Yatra

दर्शन का समय :

  • केदारनाथ जी का मन्दिर आम दर्शनार्थियों के लिए प्रात: 6:00 बजे खुलता है।
  • दोपहर तीन से पाँच बजे तक विशेष पूजा होती है और उसके बाद विश्राम के लिए मन्दिर बन्द कर दिया जाता है।
  • पुन: शाम 5 बजे जनता के दर्शन हेतु मन्दिर खोला जाता है।
  • पाँच मुख वाली भगवान शिव की प्रतिमा का विधिवत श्रृंगार करके 7:30 बजे से 8:30 बजे तक नियमित आरती होती है।
  • रात्रि 8:30 बजे केदारेश्वर ज्योतिर्लिंग का मन्दिर बन्द कर दिया जाता है।

शीतकाल में केदारघाटी बर्फ़ से ढँक जाती है। यद्यपि केदारनाथ-मन्दिर के खोलने और बन्द करने का मुहूर्त निकाला जाता है, किन्तु यह सामान्यत: नवम्बर माह की 15 तारीख से पूर्व (वृश्चिक संक्रान्ति से दो दिन पूर्व) बन्द हो जाता है और छ: माह *बाद अर्थात वैशाखी (13-14 अप्रैल) के बाद कपाट खुलता है। ऐसी स्थिति में केदारनाथ की पंचमुखी प्रतिमा को ‘उखीमठ’ में लाया जाता हैं। इसी प्रतिमा की पूजा यहाँ भी रावल जी करते हैं।

कैसे पहुंचे केदारनाथ :

केदारनाथ चार तीर्थ स्थलों में से एक है जो छोटा चार धाम आध्यात्मिक सर्किट का एक हिस्सा है। यह हालांकि मोटर योग्य नहीं है, लेकिन भक्तों की आस्था इस अवरोध को अनदेखा करती है। केदारनाथ मंदिर में प्रार्थना करने के लिए लोग गौरीकुंड (मोटरेबल क्षेत्र) से केदारनाथ धाम तक 14 किमी की पैदल यात्रा करते हैं।

हवाईजहाज से: जॉली ग्रांट हवाई अड्डा केदारनाथ से निकटतम हवाई अड्डा है जो 238 किमी की दूरी पर स्थित है। हवाई अड्डा दिल्ली, लखनऊ, मुंबई, बैंगलोर और तिरुवनंतपुरम से जुड़ा है। यह बसों और टैक्सियों के माध्यम से गौरीकुंड से जुड़ा हुआ है। गौरीकुंड केदारनाथ के लिए 14 किलोमीटर की दूरी पर है।

ट्रेन से: 216 किमी की दूरी पर ऋषिकेश रेलवे स्टेशन, केदारनाथ से निकटतम रेलवे स्टेशन है। यह रेलवे स्टेशन देश के प्रमुख शहरों और कस्बों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। गौरीकुंड (और आगे केदारनाथ) तक पहुँचने के लिए आप निकटतम बस स्टेशन से बस या टैक्सी पर सवार हो सकते हैं।

रोड से: गौरीकुंड केदारनाथ से सबसे निकटतम मोटर योग्य क्षेत्र है। वहाँ राज्य बस सेवाएं उपलब्ध हैं । ये बसें आसपास के क्षेत्र को चमोली, श्रीनगर, टिहरी, पौड़ी, ऋषिकेश, देहरादून, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तरकाशी, हरिद्वार और कई अन्य स्थानों से जोड़ती हैं। गौरीकुंड NH 109 में स्थित है।

बद्रीनाथ या बद्रीनारायण मंदिर :

Chardham Yatra

बद्रीनाथ या बद्रीनारायण मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो भगवान विष्णु को समर्पित है जो भारत के उत्तराखंड के बद्रीनाथ शहर में स्थित है। मंदिर और शहर चार चार धाम ( Chardham yatra ) और छोटा चार धाम तीर्थ स्थलों में से एक है। यह हिमालयी क्षेत्र में अत्यधिक ठण्ड के कारण, हर साल (अप्रैल के अंत और नवंबर की शुरुआत के बीच) छह महीने के लिए खुला रहता है। यह मंदिर मध्य समुद्र तल से 3,133 मीटर (10,279 फीट) की ऊंचाई पर अलकनंदा नदी के किनारे गढ़वाल के चमोली जिले में स्थित है।

ऋषिकेश से यह 294 किलोमीटर की दूरी पर उत्तर दिशा में स्थित है।यहाँ की मान्यता है कि बद्रीनाथ में भगवान शिव को ब्रह्म हत्या के पाप से मुक्ति मिली थी। जिसे आज ब्रह्म कपाल के नाम से जाना जाता है। ब्रह्मकपाल एक ऊंची शिला है जहां पितरों का तर्पण किया जाता है। करने चाहिएँ बद्री

दर्शन का समय :

अप्रैल के अंत और नवंबर की शुरुआत के बीच

कैसे पहुंचे बद्रीनाथ :

Badrinath Tours

मार्ग :

हरिद्वार – ऋषिकेश -देवप्रयाग- कीर्तिनगर – श्रीनगर – रुद्रप्रयाग – गौचर – कर्णप्रयाग – नंदप्रयाग – चमोली – बिरही – पीपलकोटी – गरुड़ गंगा- हेलंग – जोशीमठ – विष्णुप्रयाग – गोविंदघाट – पांडुकेश्वर – हनुमानचट्टी।

हवाईजहाज से: जॉली ग्रांट हवाई अड्डा देहरादून , सबसे निकटतम हवाई अड्डा है। यहां से कैब किराए पर ले सकते हैं या बस प्राप्त कर सकते हैं।

ट्रेन से: हरिद्वार और देहरादून के लिए नियमित ट्रेनें साल के सभी समय पर उपलब्ध हैं। यहां से कैब किराए पर ले सकते हैं या बस प्राप्त कर सकते हैं।

रोड से: बद्रीनाथ उत्तराखंड के महत्वपूर्ण स्थलों से मोटर योग्य सड़कों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

गंगोत्री धाम की जानकारी के लिए यह क्लिक करें

यमुनोत्री धाम की जानकारी के लिए यह क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

अक्षय कुमार ने फिल्म को 50 करोड़ में बनाने के दिए थे निर्देश, खुद भी फीस की जगह प्रॉफिट शेयर करेंगे

बॉलीवुड डेस्क. पिछली कई बिग बजट फिल्में बॉक्स ऑफिस पर अच्छी कमाई नहीं कर पाईं। बड़े बजट की फिल्मों के हश्र को देखते हुए मेकर्स और खुद एक्टर भी फिल्मों के बड़े बजट से घबराने लगे हैं। अक्षय कुमार ने अपनी आगामी फिल्म मिशन मंगल को लेकर मेकर्स को पहले […]