उत्तराखंड: ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ में कई जिले फिसड्डी, आधा बजट भी नहीं हुआ खर्च

digamberbisht

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून
Updated Mon, 11 Nov 2019 03:00 AM IST

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
– फोटो : प्रतीकात्मक तस्वीर

ख़बर सुनें

खास बातें

  • टिहरी, देहरादून, बागेश्वर, हरिद्वार, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग जनपद में यह राशि खर्च नहीं हो पाई।
केंद्र सरकार की बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के क्रियान्वयन में प्रदेश के कई जिले फिसड्डी है। हालात ये हैं कि जागरूकता कार्यक्रमों को संचालित करने के लिए मिलने वाले सालाना बजट का आधा पैसा भी जिले खर्च नहीं कर पा रहे हैं। अब शासन स्तर पर जिलों की प्रगति समीक्षा की जा रही है। वहीं, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना में नवाचार कार्यक्रम शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं। 

विज्ञापन

केंद्र सरकार महिला लिंगानुपात में सुधार लाने और बेटियों की शिक्षा के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना संचालित कर रही है। इसके तहत प्रत्येक जिले को जागरूकता कार्यक्रमों को संचालित करने के लिए सालाना 50 लाख रुपये का बजट दिया जा रहा है, लेकिन प्रदेश के कई जिले योजना की पहली किस्त के रूप में मिले 25 लाख रुपये भी खर्च नहीं कर सके हैं। वित्तीय वर्ष 2019-20 में नवंबर माह तक टिहरी, देहरादून, बागेश्वर, हरिद्वार, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग जनपद में यह राशि खर्च नहीं हो पाई है। 

विज्ञापन

आगे पढ़ें

विज्ञापन

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

चौपाल: हार न जीत

Hindi News चौपाल चौपाल: हार न जीत मन्दिर के मंत्र, गुरुद्वारे की गुरुवाणी, चर्च की प्रार्थना और मस्जिद की अजान में ही सवा सौ करोड़ देशवासियों और उनकी पीढ़ी के विकास, विश्वास और अमन-चैन की पटकथा चित्रित है। अयोध्या के विवादित स्थल पर तैनात सुरक्षाकर्मी। (फोटो सोर्स: PTI) अयोध्या के आंगन […]