उत्तराखंडः 95 केंद्रों पर समूह ‘ग’ की भर्ती परीक्षा आज, 45 हजार 544 अभ्यर्थी होंगे शामिल

digamberbisht

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून
Updated Sun, 01 Dec 2019 05:00 AM IST

ख़बर सुनें

खास बातें

  • हाईकोर्ट के 329 पदों के लिए 45 हजार 544 अभ्यर्थी देंगे परीक्षा
  • परीक्षा में गड़बड़ी रोकने के लिए चयन आयोग ने किए खास इंतजाम
प्रदेश के आठ जिलों में 95 केंद्रों पर आज समूह ‘ग’ के 329 पदों की भर्ती परीक्षा आयोजित की जाएगी। जिसमें 45 हजार 544 अभ्यर्थी परीक्षा में बैठेंगे।  अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने परीक्षा में गड़बड़ी रोकने के लिए खास इंतजाम किए हैं। परीक्षा सुबह 11 बजे से अपराह्न डेढ़ बजे तक होगी। 

विज्ञापन

अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के सचिव संतोष बडोनी ने बताया कि रविवार को होने वाली लिखित परीक्षा के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। हाईकोर्ट के अधीन दीवानी और कुटुंब न्यायालय में कनिष्ठ सहायक, आशुलिपिक, वैयक्तिक सहायक के 329 पदों के लिए 140 अंकों का प्रश्न पत्र होगा। इसके लिए ढाई घंटे का समय निर्धारित है।

उन्होंने बताया कि 45 हजार 544 पात्र अभ्यर्थियों को आयोग की ओर सेप्रवेश पत्र जारी किए गए हैं। परीक्षा के लिए देहरादून में 27, हरिद्वार में 20, श्रीनगर पौड़ी में चार, चमोली में तीन परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। जबकि हल्द्वानी नैनीताल में 18, अल्मोड़ा में आठ, पिथौरागढ़ में छह और ऊधमसिंह नगर में नौ परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा होगी।

गढ़वाल मंडल के चार जिलों में 54 केंद्रों पर 27117 अभ्यर्थी और कुमाऊं मंडल के चार जनपदों में 18427 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे। गड़बड़ी रोकने के लिए परीक्षा केंद्रों में वीडियोग्राफी की जाएगी। वहीं, अभ्यर्थियों की बायोमेट्रिक हाजिरी लगाई जाएगी। इसके साथ ही कुछ संवेदनशील केंद्रों में जैमर का इस्तेमाल भी किया जाएगा। बडोनी ने बताया कि परीक्षा केंद्र में मोबाइल, केलकुलेटर, व्हाइटनर, फ्ल्यूड, ब्ल्यू टूथ ले जाने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। 

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

दाना-पानी: मसालों की महक

Hindi News रविवारी दाना-पानी: मसालों की महक अगर मसालों का सही अनुपात में और सही तरीके से उचित मौसम में व्यवहार किया जाए, तो इनके गुण बहुत हैं। इस बार बात करते हैं मसाले बनाने की। मसालों के बगैर भारतीय व्यंजन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। मानस मनोहर भारतीय […]