UNGA: जेनेवा में पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने फिर दी युद्ध की धमकी, भारत का जोर नए साथियों की तलाश पर

digamberbisht

शाह महमूद कुरैशी ने मौजूदा हालात में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बातचीत की संभावनाओं को खारिज कर दिया, लेकिन पाकिस्तान के विदेश मंत्री जम्मू कश्मीर पर किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता के लिए तैयार दिखाई दिए।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी। (REUTERS)

UNGA Meeting: हाल ही में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग की 42वीं बैठक स्विटजरलैंड के जिनेवा में आयोजित हुई। इस बैठक में पाकिस्तान ने भारत को घेरने की भरपूर कोशिश की, लेकिन भारत ने इसका करारा जवाब दिया और पाकिस्तान की कोशिशों को विफल कर दिया। जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर अन्तरराष्ट्रीय समर्थन पाने में विफल रहा पाकिस्तान अब युद्ध की धमकी देने लगा है। जिनेवा में पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अपने एक बयान में कहा कि जम्मू कश्मीर के मौजूदा हालात में ‘दुर्घटनावश युद्ध’ होने का खतरा है।

बुधवार को जिनेवा में पत्रकारों से बात करते हुए शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि ‘भारत और पाकिस्तान दोनों ही देश किसी भी विवाद के परिणामों से अच्छी तरह वाकिफ हैं, लेकिन किसी दुर्घटनावश युद्ध से इंकार नहीं किया जा सकता। यदि स्थिति ऐसे ही बनी रही तो कुछ भी संभव है।’

शाह महमूद कुरैशी ने मौजूदा हालात में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बातचीत की संभावनाओं को खारिज कर दिया, लेकिन पाकिस्तान के विदेश मंत्री जम्मू कश्मीर पर किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता के लिए तैयार दिखाई दिए। खासकर उन्होंने अमेरिका को इस रोल के लिए बेहतर बताया।

वहीं दूसरी तरफ जल्द ही संयुक्त राष्ट्र की आम बैठक जल्द ही न्यूयॉर्क में आयोजित की जाएगी। माना जा रहा है कि पाकिस्तान यूएन जनरल असेंबली में भी कश्मीर मुद्दा उठाकर अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर इस मुद्दे पर समर्थन पाने की कोशिश करेगा। लेकिन भारत ने भी यूएन जनरल असेंबली में पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने की तैयारी शुरू कर दी है।

[embedded content]

हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि यूएन जनरल असेंबली के 74वें सत्र के लिए भारत अपने पुराने साथियों के साथ ही नए साथी भी तलाश रहा है, जो यूएन की आम बैठक में उसका समर्थन कर सकें। रिपोर्ट के अनुसार, भारत BRICS, IBSA और G/4 देशों के अलावा भी अन्य देशों का समर्थन पाने की कोशिशों में जुटा है। हालांकि अभी इसके बारे में डिटेल जानकारी नहीं मिल पायी है। भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर संयुक्त राष्ट्र के लिए एजेंडा बनाने में जुटे हैं।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21-27 सितंबर के बीच अमेरिका की यात्रा पर रहेंगे। इस दौरान वह संयुक्त राष्ट्र की जनरल असेंबली को संबोधित करेंगे। इसके अलावा वह कई अन्य द्विपक्षीय और बहुपक्षीय बैठकों में भी हिस्सा लेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

और ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

अनुच्छेद 370 के प्रावधान खत्म करने के बाद जम्मू-कश्मीर में एक महीने में 4000 लोगों को पकड़ा, पहली बार इतनी सख्ती!

Hindi News राष्ट्रीय अनुच्छेद 370 के प्रावधान खत्म करने के बाद जम्मू-कश्मीर में एक महीने में 4000 लोगों को पकड़ा, पहली बार इतनी सख्ती! जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है उनमें 200 से अधिका राजनेता, अलगाववादी समर्थक राजनीतिक संगठनों के 100 से अधिक नेता और कार्यकर्ता भी शामिल […]