तबरेज अंसारी केस: चार्जशीट और केस डायरी से उठ रहे कई सवाल, गवाह ने बताई थी वारदात की दास्तान- इतना मारो कि मर जाए

digamberbisht

इस घटना का वीडियो क्लिप भी सामने आया था, जिसमें दिखाई दे रहा था कि भीड़ ने उसे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे भी लगवाए।

Author नई दिल्ली | Updated: September 13, 2019 8:28 AM
तबरेज अंसारी मामले में झारखंड पुलिस ने हत्या की धाराएं हटायीं।

चर्चित तबरेज अंसारी केस में झारखंड पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ हत्या की धारा हटा ली है। पुलिस का कहना है कि यह हत्या जानबूझकर नहीं की गई थी और उसकी मौत सिर में चोट लगने के कारण नहीं बल्कि हार्ट अटैक से हुई थी। हालांकि चार्जशीट और केस डायरी से पुलिस की थ्योरी पर कई सवाल उठ रहे हैं। तबरेज अंसारी के चाचा और इस मामले में गवाह मोहम्मद मसरुर आलम ने भी अपने बयान में कहा है कि उसने सुना था कि भीड़ चिल्ला रही थी कि ‘इतना मारो कि मर जाए।’

मसरुर आलम ने अपने बयान में ये भी कहा था कि ‘तबरेज अंसारी पुलिस स्टेशन में चल भी नहीं पा रहा था और ‘बेहोशी’ की हालत में था। काफी कोशिशों के बाद वह अपनी आंखें खोल रहा था। आलम के अनुसार, वह अगले दिन उससे जेल में मिला था और वह रो रहा था। उसने मुझे बताया कि उसके सिर में काफी चोट लगी है और वह उसका इलाज कराने को कह रहा था।’

इस मामले में मसरुर आलम सहित कुल 24 गवाह हैं, जिनके बयान चार्जशीट में दर्ज हैं और उन्हें बीती 23 जुलाई को चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया था।

बता दें कि तबरेज अंसारी केस में दाखिल की गई चार्जशीट में इस बात का जिक्र है कि पोस्टमार्टम करने वाले बोर्ड ऑफ डॉक्टर्स का भी कहना है कि यदि विसरा रिपोर्ट में ‘जहर’ की पुष्टि नहीं होती है तो फिर मौत का कारण सिर में लगी चोट को माना जाएगा। वहीं केस डायरी के अनुसार, पुलिस ने विसरा रिपोर्ट आने से पहले ही आरोपियों के खिलाफ हत्या की धाराओं से हटाकर मामले को आईपीसी की धारा 304 के तहत दर्ज कर लिया है।

बता दें कि बीती 18 जून को झारखंड के सरायकेला-खारसवां जिले के दातकिडीह गांव में चोरी के आरोप में 22 वर्षीय तबरेज अंसारी को लोगों की भीड़ ने खंभे से बांधकर बुरी तरह से पीटा था। इस घटना का वीडियो क्लिप भी सामने आया था, जिसमें दिखाई दे रहा था कि भीड़ ने उसे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे भी लगवाए।

[embedded content]

घटना के बाद पुलिस ने तबरेज अंसारी को हिरासत में ले लिया था, लेकिन इसके 4 दिन बाद एक स्थानीय अस्पताल में उसकी मौत हो गई। अब बीती मंगलवार को झारखंड पुलिस ने तबरेज अंसारी मामले में आरोपियों को खिलाफ धारा 302 हटा ली। सरायकेला- खारसवां के पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस ने द इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में बताया कि “चार्जशीट से आईपीसी की धारा 302 हटाने की दो वजह हैं। पहली कि उसकी मौत मौके पर नहीं हुई.. और गांव वालों की अंसारी को मारने की मंशा नहीं थी। दूसरी वजह ये है कि मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर भी धारा 302 हटाई गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई है और सिर में चोट उतनी घातक नहीं थी। दूसरी मेडिकल ओपिनियन रिपोर्ट में मौत की वजह हार्ट अटैक और सिर में लगी चोट दोनों को बताया गया है। “

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

और ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

रियलिटी शो के सेट पर मनीष पॉल से गुस्सा हुईं रवीना टंडन, माइक फेंककर बाहर चली गईं

किरण जैन/ टीवी डेस्क. एक्ट्रेस रवीना टंडन डांसिंग रियलिटी शो ‘नच बलिए 9’ में बतौर जज नजर आ रही हैं। एक लेटेस्ट एपिसोड की शूटिंग के दौरान शो के होस्ट मनीष पॉल से उनकी बहस हो गई, जिसके बाद वे इस कदर नाराज हुईं कि माइक फेंककर सेट से बाहर […]