बिहार में NDA के कप्तान हैं नीतीश कुमार और 2020 तक बने रहेंगेः संजय पासवान

digamberbisht

रामविलास ने कहा कि भारत आज हर मामले में पहल कर रहा है और हमारे पडोसी देश :पाकिस्तान: को मुंह की खानी पड रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने ‘‘न खाएंगे और न खाने देंगे’’ की बात करते हुए प्रथम चरण में भ्रष्टाचार पर वार किया तथा भ्रष्ट लोगों के खिलाफ शिकंजा कसा जा रहा है।

Author पटना | Updated: September 12, 2019 1:14 PM
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। (फाइल फोटो)

बिहार में भाजपा के एक नेता द्वारा 2020 के विधानसभा चुनाव बाद राजग नेतृत्व परिवर्तन का राग छेड़ने के एक दिन बाद लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान ने कहा कि नीतीश कुमार ही राज्य में राजग का चेहरा हैं। भाजपा के बिहार विधान परिषद सदस्य संजय पासवान ने 2020 के विधानसभा चुनाव बाद राजग नेतृत्व परिवर्तन की बात की थी। इस बारे में पूछे जाने पर राजग के घटक दल लोजपा के नेता ने कहा कि नीतीश कुमार राजग का चेहरा हैं। उन्होंने उपमुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी के एक ट्वीट को भी उद्धरित करते हुए कहा कि संजय पासवान का बयान भाजपा का अधिकृत बयान नहीं है।

सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा था कि बिहार में राजग के “कप्तान” नीतीश कुमार हैं और 2020 के प्रदेश के विधानसभा चुनाव में इस गठबंधन के कप्तान बने रहेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नीत केंद्र की वर्तमान सरकार के सौ दिन पूरे होने पर इस सरकार द्वारा किए गए कार्यों की चर्चा करते हुए रामविलास ने विपक्ष पर अल्पसंख्यक और दलित वर्ग के लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि हम लोग आतंकवाद को समाप्त करने में लगे हुए हैं और वे समाज के एक वर्ग को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ‘‘जब इस वर्ष के शुरू में कुंभ मेला इलाहाबाद में हुआ था, तो आपको याद होगा कि प्रधानमंत्री ने पवित्र संगम में डुबकी लगाई थी और उसके बाद वह किसी मंदिर में नहीं गए थे, लेकिन सफाई कर्मचारियों के पैर धोए थे।’’ रामविलास पासवान ने कहा, ‘‘तीन तलाक पर प्रतिबंध लगाने का कानून अल्पसंख्यक महिलाओं के कल्याण को ध्यान में रखकर लाया गया । जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा को खत्म किया जाना एक राष्ट्र एक संविधान के दर्शन के अनुरूप है।’’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश—विदेश से जुडे हर मामले में स्वयं अगुवाई करते हैं और हमें इस बात की खुशी है कि नेतृत्व कर रहे नेता को जो पहल करनी चाहिए वह कर रहे हैं।

रामविलास ने कहा कि भारत आज हर मामले में पहल कर रहा है और हमारे पडोसी देश :पाकिस्तान: को मुंह की खानी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने ‘‘न खाएंगे और न खाने देंगे’’ की बात करते हुए प्रथम चरण में भ्रष्टाचार पर वार किया तथा भ्रष्ट लोगों के खिलाफ शिकंजा कसा जा रहा है। अब उनका नारा है ‘‘न सोएंगे और न सोने देंगे’’ तो खुद भी दिन रात काम करते रहते हैं और सभी मंत्रालयों को काम में लगाए रहते हैं। रामविलास ने कहा कि ”नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश तेजी से प्रगति कर रहा है और विदेश में भारत का सम्मान बढ़ा है।

प्याज की बढ़ती कीमतों के बारे में पूछे जाने पर केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्व एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास ने कहा कि इससे जूझ रहे राज्य नैफेड जैसे राष्ट्रीय निकायों की मदद से सब्जी को पर्याप्त मात्रा में स्टॉक कर समस्या से निपट सकते हैं। प्लास्टिक के बोतल आदि के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने की जोरदार वकालत करते हुए रामविलास ने कहा कि मेरे मंत्रालय ने पहले से ही अपने किसी भी कार्य में प्लास्टिक का उपयोग नहीं करने का निर्णय लिया है। लोगों को इनसे अवगत कराने की आवश्यकता है। बेशक, हम पूरी तरह से प्लास्टिक का उन्मूलन नहीं कर सकते हैं, लेकिन ऐसे प्रकार हैं जिन्हें हम दूर कर सकते हैं।

भाजपा शासित पडोसी राज्य झारखंड में तबरेज की भीड द्वारा पीट—पीटकर हत्या के बारे में पूछे जाने पर रामविलास ने कहा, ”लोजपा का मानना है कि भीड़ द्वारा किया जा रहा अत्याचार मानवता के लिए जाने वाले सबसे जघन्य अपराधों में से एक है। मैं हत्या के आरोप से छूटे हुए आरोपियों पर टिप्पणी नहीं कर सकता। जांच एजेंसियों को परीक्षण के दौरान आरोप साबित करने होंगे। लेकिन मैं सभी सरकारों, केंद्र और राज्य से आग्रह करता हूं कि भीड़ हिंसा में लिप्त लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

और ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

दुनिया की टॉप-300 में शामिल नहीं भारत की एक भी यूनिवर्सिटी, 2012 के बाद पहली बार सबसे घटिया रैंकिंग

Hindi News राष्ट्रीय दुनिया की टॉप-300 में शामिल नहीं भारत की एक भी यूनिवर्सिटी, 2012 के बाद पहली बार सबसे घटिया रैंकिंग टाइम्स हायर एजुकेशन ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इस रैंकिंग लिस्ट में आईआईएससी के पिछड़ने का कारण रिसर्च से जुड़े स्कोर में कमी आना है। आईआईटी […]