बकाया नहीं चुकाने पर आम्रपाली के खरीददारों का नहीं होगा फ्लैटों में प्रवेश और रद्द होगी रजिस्ट्रीः कोर्ट

digamberbisht

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति यू यू ललित की पीठ ने कहा कि आम्रपाली समूह से काफी कम कीमत पर फ्लैट खरीदने वाले ‘छद्म खरीदारों’ को इसमें प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी और वे बकाया का भुगतान नहीं कर सकेंगे। उनके फ्लैटों का पंजीकरण रद्द किया जाएगा।

Author नई दिल्ली | Updated: September 12, 2019 1:07 PM
उच्चतम न्यायालय ने आम्रपाली ग्रुप के फ्लैट खरीदारों को बकाया का भुगतान नहीं करने को लेकर आगाह किया है।

उच्चतम न्यायालय ने आम्रपाली ग्रुप के फ्लैट खरीदारों को बकाया का भुगतान नहीं करने को लेकर आगाह किया है। शीर्ष न्यायालय ने बुधवार (11 अगस्त) को कहा कि यदि वे बकाया का भुगतान नहीं करते हैं तो वित्तीय संकट की वजह से अटकी परियोजनाओं को बंद करना पड़ सकता है। रीयल एस्टेट कंपनी आम्रपाली अब ‘बंद’ है। उच्चतम न्यायालय ने घर खरीदारों को बकाया राशि चुकाने के नोटिस के तौर तरीके को मंजूरी दे दी है। उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त कोर्ट रिसीवर के अनुमोदन के बाद ऐसा किया जा सकता है।

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति यू यू ललित की पीठ ने कहा कि आम्रपाली समूह से काफी कम कीमत पर फ्लैट खरीदने वाले ‘छद्म खरीदारों’ को इसमें प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी और वे बकाया का भुगतान नहीं कर सकेंगे। उनके फ्लैटों का पंजीकरण रद्द किया जाएगा। पीठ ने कहा, ‘‘यदि घर खरीदार बकाया राशि चुकाने को तैयार नहीं होते हैं तो हमें परियोजनाओं को एक साथ जोड़ना होगा।’’ फ्लैट खरीदारों की वकील शोभा ने कहा कि उनकी परियोजना आम्रपाली लेजर पार्क सी श्रेणी में आती है। बिल्डर-खरीदार करार के तहत भुगतान योजना निर्माण से जुड़ी है।

उन्होंने कहा, ‘‘अभी तक जमीन पर कुछ नहीं हुआ है। ऐसे में यदि मुझे भुगतान करने को कहा जाता है तो यह उचित नहीं होगा।’’ पीठ ने इस पर कहा कि यदि आप पैसा नहीं देना चाहते हैं तो घर जा सकते हैं। यदि आप चाहते हैं कि निर्माण हो तो घर खरीदारों को बकाया राशि देनी होगी। बकाया राशि जमा कराने के लिए तैयार रहें। न्यायालय ने कहा कि बकाया वाले घर खरीदारों का परियोजना आधारित नाम यूको बैंक, नोएडा और ग्रेटर नोएडा की वेबसाइट पर डाला जाएगा। वरिष्ठ अधिवक्ता आर वेंकटरमानी उसका अनुमोदन करेंगे।

न्यायालय ने कहा कि अदालत के रिसीवर द्वारा घर खरीदारों का ब्योरा इन वेबसाइटों पर अनुमोदित करने के बाद उन्हें बकाया चुकाने के लिए नोटिस दिया जाएगा। फॉरेंसिक आडिटरों के अनुसार यह बकाया राशि 3,600 करोड़ रुपये के करीब है। पीठ ने निर्देश दिया है कि उच्चतम न्यायालय में यूको बैंक की शाखा में एक अलग खाता खोला जाए, जहां फ्लैट खरीदार बकाया राशि जमा करा सकें।

न्यायालय ने छह बैंकों बैंक आफ बड़ौदा, यूनियन बैंक आफ इंडिया, कॉरपोरेशन बैंक, सिंडिकेट बैंक, बैंक आफ इंडिया और बैंक आफ महाराष्ट्र को नोटिस जारी कर कहा कि वे आवास ऋण और संपत्ति ऋण पर घर खरीदारों की शेष किस्तें जारी करें। शीर्ष अदालत ने दो फॉरेंसिक आडिटरों पवन अग्रवाल और रवि भाटिया को निर्देश दिया कि वे आम्रपाली ग्रुप की दो शेष परियोजनाओं हर्टबीट सिटी और ओ 2 वैली का आडिट 30 सितंबर तक पूरा करें। इन परियोजनाओं का पंजीकरण शीर्ष अदालत ने रेरा कानून के तहत रद्द कर दिया था।

[embedded content]

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

और ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

एपल आईफोन 11 प्रो की सबसे बड़ी खूबी कैमरा, लेकिन बेस मॉडल में कुछ नया नहीं

गैजेट डेस्क. एपल ने अपनी आईफोन 11 सीरीज के तीन नए फोन आईफोन 11, आईफोन 11 प्रो और आईफोन 11 प्रो मैक्स लॉन्च कर दिए हैं। भारतीय बाजार में इनकी बिक्री 27 सितंबर से शुरू होगी। आईफोन 11 की शुरुआती कीमत 64,900 रुपए, आईफोन 11 प्रो की शुरुआती कीमत 99,900 […]