Vaikunth (Baikunth) Chaturdashi 2019, Lord Vishnu Aarti: बैकुंठ चतुर्दशी के दिन भगवान विष्णु और गणेश जी की इस आरती को उतारना न भूलें

digamberbisht

Vishnu And Ganesh Aarti Video/Bhajan/Song: आज बैकुंठ चतुर्दशी के दिन पूजा के समय ॐ जय जगदीश हरे… और जय गणेश जय गणेश देवा आरती जरूर उतारें।

भगवान विष्णु और गणेश जी की पूरी आरती देखें यहां।

Ganesh And Vishnu Ji Ki Aarti: आज बैकुंठ चतुर्दशी है। इस दिन भगवान विष्णु की विशेष पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन विधि विधान पूजा करने से बैकुंठ धाम यानि की स्वर्ग की प्राप्ति हो जाती है। कार्तिक मास की चतुर्दशी को बैकुंठ चतुर्दशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन व्रत रखने का भी विशेष महत्व है। पितरों के तर्पण कार्य के लिए भी ये दिन काफी शुभ माना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु और शिव जी की विधि विधान पूजा करने के बाद श्री हरि की इस आरती को उतारना न भूलें जिसके बिना हरि पूजन अधूरा माना जाता है।

विष्णु जी की आरती (Vishnu Ji Ki Aarti) :

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे।
भक्तजनों के संकट क्षण में दूर करे॥

जो ध्यावै फल पावै, दुख बिनसे मन का।
सुख-संपत्ति घर आवै, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय…॥

मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी।
तुम बिनु और न दूजा, आस करूं जिसकी॥ ॐ जय…॥
तुम पूरन परमात्मा, तुम अंतरयामी॥
पारब्रह्म परेमश्वर, तुम सबके स्वामी॥ ॐ जय…॥

तुम करुणा के सागर तुम पालनकर्ता।
मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥ ॐ जय…॥

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।
किस विधि मिलूं दयामय! तुमको मैं कुमति॥ ॐ जय…॥

दीनबंधु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे।
अपने हाथ उठाओ, द्वार पड़ा तेरे॥ ॐ जय…॥

विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा।
श्रद्धा-भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा॥ ॐ जय…॥

तन-मन-धन और संपत्ति, सब कुछ है तेरा।
तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा॥ ॐ जय…॥

जगदीश्वरजी की आरती जो कोई नर गावे।
कहत शिवानंद स्वामी, मनवांछित फल पावे॥ ॐ जय…॥

[embedded content]

गणेश जी की आरती (Ganesh Ji Ki Aarti) :

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

एकदंत, दयावन्त, चार भुजाधारी,
माथे सिन्दूर सोहे, मूस की सवारी।
पान चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा,
लड्डुअन का भोग लगे, सन्त करें सेवा।। …
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा।

माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।
अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया,

बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया।
‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा …
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।

[embedded content]

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी।
कामना को पूर्ण करो जय बलिहारी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

शिवसेना छोड़ेगी NDA, मोदी सरकार से इस्तीफे का ऐलान कर BJP पर भड़के अरविंद सावंत- हमारा पक्ष सच्चा, झूठ के माहौल में नहीं रह सकते

Hindi News राष्ट्रीय शिवसेना छोड़ेगी NDA, मोदी सरकार से इस्तीफे का ऐलान कर BJP पर भड़के अरविंद सावंत- हमारा पक्ष सच्चा, झूठ के माहौल में नहीं रह सकते शिवसेना के कोटे से केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री बने अरविंद सावंत ने सोमवार (11 नवंबर) को इस्तीफा देने का ऐलान कर […]