ब्राह्मणों को सर्वश्रेष्‍ठ बता घिरे लोकसभा स्‍पीकर ओम बिरला, हो रही खूब आलोचना, आपस में भिड़े ट्व‍िटर यूजर्स

digamberbisht

उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों को जन्म से ही समाज में उच्च स्थान मिल जाता है। इसकी वजह उनका समर्पण, त्याग और दूसरे समुदायों को मार्गदर्शन करना है। उनके इस बयान की सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हो रही है।

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने विवादित बयान दिया है जिसके बाद उनकी आलोचना हो रही है।(फोटो- ट्विटर)

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला अपने एक बयान के चलते विवादों में घिर गए हैं। उनके इस बयान के चलते उनकी काफी आलोचना हो रही है। यही नहीं उनके इस बयान को लेकर ट्विटर यूजर्स भी आपस में भिड़ गए। दरअसल ओम बिरला रविवार (8 सितंबर) को राजस्थान के कोटा में आयोजित अखिल ब्राह्मण महासभा की मीटिंग में मौजूद थे, जहां उन्होंने ब्राह्मणों को सर्वश्रेष्ठ बताया। उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों को जन्म से ही समाज में उच्च स्थान मिल जाता है। इसकी वजह उनका समर्पण, त्याग और दूसरे समुदायों को मार्गदर्शन करना है। उनके इस बयान की सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हो रही है।

पत्रकार आरफा खानम शेरवानी ने ओम बिरला का ट्वीट रिट्वीट करते हुए लिखा है-जातिवाद की कीचड़ में खिलता कँवल… बिड़ला जी, जिस संविधान की शपथ लेकर आप स्पीकर के पद पर बैठे हैं, उसकी कुछ तो लाज रखिये… महोदय !

इसके अलावा दिलीप मंडल ने मखलखान सिंह की कविता ट्विट करते हुए ओम बिड़ला के बयान पर तंज कसा है। उन्होंने लिखा है-सुनो ब्राह्मण,हमारे पसीने से बू आती है, तुम्हें।
तुम, हमारे साथ आओ
चमड़ा पकाएंगे दोनों मिल-बैठकर।
शाम को थककर पसर जाओ धरती पर
सूँघो खुद को
बेटों को, बेटियों को
तभी जान पाओगे तुम
जीवन की गंध को
बलवती होती है जो
देह की गंध से। – कवि मलखान सिंह

इसके अलावा कई यूजर उनके इस बयान को लेकर आपस में बहस करते नजर आए। एक यूजर ने लिखा है,- राम क्या ब्राह्मण थे?
क्या कृष्ण ब्राह्मण थे? क्या सम्राट अशोक ब्राह्मण थे? क्या गुप्त राजा ब्राह्मण थे? यदि नहीं, तो ब्राह्मण कब होने लगे ऊँच स्थान वाले?
इसके जवाब में एक अन्य यूजर ने लिखा है- राम के गुरु ब्राह्मण थे, कृष्णा के गुरु ब्राह्मण थे, अशोक के गुरु ब्राह्मण थे गुप्त के गुरु ब्राह्मण थे और सुनिए गुरु का स्थान क्या होता है थोड़ा अध्ययन कर ले…

मीटिंग में यह बोले ओम बिरला: लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने कहा, ‘‘ब्राह्मण समाज हमेशा सम्पूर्ण समाज को मार्गदर्शन देते हुए काम करता है। आज वर्तमान समय के अंदर भी, एक गांव एक धाणी में एक ब्राह्मण परिवार भी रहता है, तो वह ब्राह्मण परिवार अपने समर्पण और सेवा के कारण, उसका हमेशा उच्च स्थान होता है। और इसलिए इस समाज में पैदा होने के साथ ही, आपका सम्मान, सम्पूर्ण समाज में उच्च रूप से होता है।’’
[embedded content]

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

और ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

Ganpati Visarjan 2019 status, messages, quotes: 12 सितंबर को है गणपति विसर्जन, इस खास मौके पर दोस्तों और रिश्तेदारों को इन मैसेजेज के जरिए दें शुभकामनाएं

Hindi News जीवन-शैली Ganpati Visarjan 2019 status, messages, quotes: 12 सितंबर को है गणपति विसर्जन, इस खास मौके पर दोस्तों और रिश्तेदारों को इन मैसेजेज के जरिए दें शुभकामनाएं Ganpati Visarjan 2019 quotes, wishes images, HD wallpaper, quotes, Shayari: इस गणपति विसर्जन के मौके पर आप अपनों को भेज सकते […]