Lifestyle: इन उपायों को अपनाकर तनाव को भगाएं दूर

digamberbisht

नाव को कम करने के सही और कारगर तरीके नहीं अपनाने की से यह हमारे ऊपर हावी होता जा रहा है। इसकी वजह से विशेषकर दफ्तर में काम करने वाले लोगों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

प्रतीकात्मक तस्वीर

ढ़ाई, करिअर से लेकर व्यक्तिगत विकास और परिवार को समय देने से लेकर दफ्तर के काम को सही समय पर पूरा करने तक हमें प्रतिदिन तनाव का शिकार बना रहे हैं। तनाव को कम करने के सही और कारगर तरीके नहीं अपनाने की से यह हमारे ऊपर हावी होता जा रहा है। इसकी वजह से विशेषकर दफ्तर में काम करने वाले लोगों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इनमें आंखों का खिंचाव, अनिद्रा, कमर दर्द आदि शामिल है। आज हम तनाव को दूर भागने के लिए कुछ उपाय बता रहे हैं।

सांसों पर ध्यान देना : याद कीजिए आखिरी बार आपने आपनी सांसों पर कब ध्यान दिया था। शायद आपको याद नहीं आएगा क्योंकि आज की भागदौड़ से भरी जिंदगी में हमारे पास इसके लिए समय ही नहीं है। जबकि इस बात को सभी जानते हैं कि सांसें कितनी महत्त्वपूर्ण हैं। इसलिए जब भी आप तनाव में आएं, सबसे पहले लंबी सांस अपने फेफड़ों में भरें और धीरे-धीरे उसे छोड़ें। इस प्रक्रिया के दौरान पूरा ध्यान सांस के नाक में अंदर जाने और बाहर आने पर केंद्रित रखें। आप पाएंगे कि धीरे-धीरे आप तनाव से बाहर आ रहे हैं।

विचारों को लिखना : तनाव को दूर करने के लिए काफी लोग लेखन का सहारा लेते हैं। तनाव के समय आपके मन-मस्तिष्क में जो भी चल रहा है, उसे कागज पर उतारने की कोशिश करें। इससे तनाव को कम करने में मदद मिलेगी। बाद में जब भी आप उस कागज को पढ़ेंगे तो पाएंगे कि उस समय तनाव की कोई खास वजह नहीं थी। यानी उस स्थिति में बिना तनाव लिए भी काम किया जा सकता था।

व्यायाम : व्यायाम एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके माध्यम से हम न सिर्फ अपनी ऊर्जा को अपने स्वास्थ्य को बेहतर करने में उपयोग करते हैं बल्कि इससे हम तनाव से भी ध्यान हटा पाते हैं। व्यायाम करते समय शरीर कई प्रकार के हार्मोन का रिसाव करता है जो प्राकृतिक रूप से दर्दनिवारक होते हैं। इतना ही नहीं व्यायाम से अनिद्रा जैसी स्थिति से भी छुटकारा मिल जाता है।

ध्यान करना : हमारे मस्तिष्क से ही हमें तनाव होता है। ध्यान से मस्तिष्क को शांत किया जा सकता है। आप कहीं भी ध्यान कर सकते हैं। इसके लिए आपको कुछ समय के लिए आंखें बंद करके अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करना होगा। इसके अलावा मोबाइल ऐप का भी सहारा लिया जा सकता है।
सुबह की दिनचर्या को सरल बनाएं : दिन की शुरुआत का असर पूरे दिन रहता है। इसलिए सुबह की दिनचर्या को जितना सरल बना सकते हैं, बनाएं। कोशिश करें कि सुबह कोई बैठक या ऐसे काम नहीं करें जिससे तनाव होने या बढ़ने की आशंका हो। सुबह शुरू हुआ तनाव पूरे दिन परेशान करता है।
परिवार के लिए समय निकालें : अकसर लोग तनाव की स्थिति में अपने परिवार से ही दूर भागने लगते हैं। यह सही नहीं है। परिवार के लोग ही हैं जो हमें हर स्थिति में संभालने के लिए आगे आते हैं। इसलिए परिवार के लिए जरूर समय निकालें। उनके साथ बाहर घूमने जाएं। कुछ मौज-मस्ती करें। इस तरह से तनाव खुद-ब-खुद भाग जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

No posts found.
Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

पंचायत चुनाव: 11 को दूसरे चरण का मतदान, 14 लाख मतदाता करेंगे 12094 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Thu, 10 Oct 2019 02:30 AM IST उत्तराखंड पंचायत चुनाव – फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो ख़बर सुनें खास बातें 11 अक्टूबर को दूसरे चरण के मतदान में 23054 पदों के लिए होगा चुनाव । तीसरे चरण में कुल 21391 पदों के लिए होना है […]