चौपालः गहराता संकट, अब कार्रवाई हो

digamberbisht

इस्लामिक स्टेट से यही सगंठन अमेरिका के साथ मिल कर लड़ता रहा है। अमेरिका के हटते ही तुर्की की सेना इन पर हमला कर देगी, क्योंकि कुर्दों को तुर्की अपना दुश्मन मानता है।

प्रतीकात्मक तस्वीर

पश्चिम एशिया के देश सीरिया और गहरे संकट में फंस सकता है। अमेरिका ने एलान कर दिया है कि वह सीरिया से दो हजार अमेरिकी सैनिकों निकालेगा। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी नहीं करा पाए तो उन्होंने अपने मतदाताओं को रिझाने के लिए सीरिया से सैनिकों की वापसी का एलान कर डाला। जबकि उनके दल के ही सांसद ऐसा करने से मना कर रहे हैं, क्योंकि ऐसा होने पर कुर्द लड़ाकाओं के लिए मुश्किल खड़ी हो जाएगी। इस्लामिक स्टेट से यही सगंठन अमेरिका के साथ मिल कर लड़ता रहा है। अमेरिका के हटते ही तुर्की की सेना इन पर हमला कर देगी, क्योंकि कुर्दों को तुर्की अपना दुश्मन मानता है। उधर, ईरान और रूस जो सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद को समर्थन दे रहे हैं, वे भी कुर्दिश लड़ाकुओं पर हमला कर देगें। इस तरह सीरियाई तानाशाह को और लंबे समय तक शासन करने का मौका मिल जाएगा। इस्लामिक स्टेट जैसे आंतकी गुट पहले से ज्यादा सक्रिय हो जाएंगे। ट्रंप का यह निर्णय सीरिया को और ज्यादा संकट में डालने वाला साबित होगा।
’जंग बहादुर सिंह, जमशेदपुर, बिहार

भारतीय सफेदपोश लोगों पर हो कड़ी कार्रवाई 
भारत को लंबे इंतजार के बाद स्विट्जरलैंड सरकार से स्विस बैंक में खाता रखने वाले भारतीय खाताधारकों का ब्योरा मिला है। लेकिन यह कवायद देश के लिए तभी सार्थक हो पाएगी, जब स्विस बैंक में कालाधन जमा करवाने वाले भारतीय सफेदपोश लोगों पर कड़ी कार्रवाई होगी। दशकों से आम सुनने में आता रहा है कि भारत के बड़े-बड़े चेहरों ने अपना पैसा स्विस बैंक में जमा करवाया हुआ है, लेकिन अब हकीकत सामने आ गई है। केंद्र सरकार को चाहिए कि यदि कानूनी तौर पर संभव हो तो स्विस बैंक में पैसा रखने वाले भारतीय लोगों के नाम और उनके खाते में जमा राशि को सार्वजनिक करे और इस पैसे को देश में वापस लाकर गरीब लोगों की भलाई व विकास पर खर्च करे।
’राजीव शर्मा, कोटकपूरा, पंजाब्

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

No posts found.
Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

दुनिया मेरे आगेः कसौटी पर इंसानियत

Hindi News दुनिया मेरे आगे दुनिया मेरे आगेः कसौटी पर इंसानियत काम करने की जगह ऐसी हो, जहां उसकी क्षमताओं में वृद्धि हो; जो उसे एक खुले मैदान जैसी लगे, न कि चारदिवारी की कैद जैसी। वहां आत्मसम्मान मिले जहां जाकर वह खुश हो। जहां जाकर उसे लगे कि वह […]