Cyclone Maha- Bulbul: आंध्र प्रदेश और ओडिशा में चक्रवाती तूफान बुलबुल का खतरा, अगले 24 घंटों में गुजरात पहुंचेगा ‘महा’

digamberbisht

Weather Forecast, Cyclone Maha-Bulbul, Heavy Rains, IMD, Skymet: अगर ये दोनों तूफान ज्यादा खतरनाक रूप लेते हैं तो महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिम बंगाल, आंध्र और ओडिशा पर इसका सीधा असर पड़ेगा।

प्रतीकात्मक चित्र सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

Weather Forecast, Cyclone Maha- Cyclone Bulbul, Heavy Rains: आंध्र प्रदेश और ओडिशा बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में उठे चक्रवात बुलबुल (Cyclone Bulbul) से निपटने के लिए तैयारी कर रहे हैं। मौसम की भविष्यवाणी करने वाली एजेंसी स्काईमेट (Skymet ) ने कहा कि यह इस साल का 7वां चक्रवाती तूफान है जो भारत के तट से टकराएगा। आंध्र (Andhra Pradesh) और ओडिशा (Odisha) के दो जिलों केंद्रपाड़ा और जगतसिंहपुर पर बुलबुल का खतरा मंडरा है। वहीं अरब सागर में चक्रवाती तूफान ‘महा’ (Cyclone Maha) का खतरा पहले से ही मौजूद है। जानकारों की माने तो अगर ये दोनों तूफान ज्यादा खतरनाक रूप लेते हैं तो महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिम बंगाल, आंध्र और ओडिशा पर इसका सीधा असर पड़ेगा। ऐसे में भारी बारिश के साथ तेज हवाएं चलेंगी।

क्या है क्या अनुमान: भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD), भुवनेश्वर के निदेशक एचआर विश्वास ने कहा कि चक्रवात के 8 से 9 नवंबर के बीच ओडिशा तट से टकराने की संभावना है। फनी के बाद इस साल, ओडिशा को हिट करने वाला बुलबुल दूसरा चक्रवात होगा। यह निम्न-दबाव का क्षेत्र पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ रहा है और बंगाल की पूर्व-मध्य खाड़ी पर एक बड़े तूफान के रूप में बदल जाएगा। अगले 24 घंटों में यह चक्रवाती तूफान का रूप ले लेगा। जिसे चलते पश्चिम बंगाल, ओडिशा, अंडमान-निकोबार और उत्तर-पूर्व के राज्यों में भारी बारिश हो सकती है।

Hindi News Today, 06 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

एक साल में सातवां तूफान: स्काईमेट ने कहा कि यह संभावना है कि भारत एक साल में सबसे अधिक चक्रवातों के हिट होने के अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ देगा। उन्होंने बताया कि पिछले साल, देश के सात चक्रवातों की चपेट में आने के बाद 33 साल पुराना रिकॉर्ड टूट गया था।

[embedded content]

क्या होगा असर: बुलबुल के चलते प. बंगाल, ओडिशा और अंडमान के के कई इलाकों में भरी बारिश के आसार हैं। अगले 36 घंटों में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश होगी। वहीं, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में 9 नवंबर तक बारिश के साथ तेज हवाएं चलने के आसार हैं। ऐसे में मछुआरों को चेतावनी दी गई है कि 7 नवंबर के बाद बंगाल की खाड़ी में न जाएं। वहीं महा के कारण गुजरात-महाराष्ट्र-राजस्थान के कई  इलाकों में बारिश का अनुमान है। गुजरात के सौराष्ट्र, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, अमरेली, भावनगर, सूरत, भरूच, आणंद, अहमदाबाद में 6 नवंबर को हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश हो सकती है। जबकि महाराष्ट्र राजस्थान में भी बारिश की आशंका जताई जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

मातृशक्ति सम्मेलन: 80 फीसदी महिलाएं खेती तो करती हैं लेकिन उनके नाम जमीन नहीं होती-रेखा शर्मा

मातृशक्ति सम्मेलन – फोटो : अमर उजाला खास बातें आज राज्य सरकार और अमर उजाला की ओर श्रीनगर में आयोजित होगा मातृशक्ति सम्मेलन विभिन्न क्षेत्रों में नाम कमाने वाली हस्तियां मातृशक्ति और उद्यमिता विषय पर करेंगे चर्चा लाइव अपडेट 11:21 AM, 06-Nov-2019 अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने गढ़वाली में […]