लेफ्ट का दोहरा रुख! माओवादियों के खिलाफ सीएम विजयन ने खोला मोर्चा, पार्टी सीपीएम कर रही आरोपियों की मदद

digamberbisht

प्रदेश के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के मातहत काम करने वाला गृह विभाग ने माओवादी प्रभावित जिलों के लिए विशेष वित्तीय सहायता के लिए योग्य बनने के बाद से माओवादी खतरे से निपटने के लिए अपना दृढ़ संकल्प बनाए रखा है।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन।

केरल में माओवादियों से संपर्क रखने के आरोप में सीपीआई(एम) के दो कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी से पार्टी राजनीतिक असमंजस की स्थिति में है। ये गिरफ्तारियां ऐसे समय में हुईं जब गृह विभाग ने नोर्थ केरल में माओवादियों के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया। बताया जाता है कि जिन कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है वो वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित थे। खास बात है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के मातहत काम करने वाला गृह विभाग ने माओवादी प्रभावित जिलों के लिए विशेष वित्तीय सहायता के लिए योग्य बनने के बाद से माओवादी खतरे से निपटने के लिए अपना दृढ़ संकल्प बनाए रखा है। हालांकि इस बीच मामले में कथित तौर पर लेफ्ट का दोहरा रुख भी सामने आया है। दरअसल CPI(M) उन पार्टी कैडरों का समर्थन कर रही है जिन्हें संदिग्ध माओवादी लिंक के साथ गिरफ्तार किया गया है। पुलिस कार्रवाई की निंद करते हुए सीपीआईएम ने पहले ही आरोपियों के लिए कानूनी सहायता व्यवस्था कर दी है।

दरअसल, पुलिस ने हाल के दिनों में कानून और मीडिया के छात्रों एलन शुहाब (20) और थाह फाजिल (24) को यह कहते हुए गिरफ्तार कर लिया कि वे माकपा की आड़ में माओवादियों संग काम कर रहे थे। एफआईआर के मुताबिक दोनों ने माओवादी होने की बात भी कबूल की है और उन्होंने आतंक विरोधी कानून UAPA के तहत गिरफ्तार किया गया है। ऐसे में राजनीतिक रूप से UAPA के तहत गिरफ्तारी पर सीपीआईएम नीत एलडीएफ वेट-एंड-वॉच का रुख अपना कठिन होगा क्योंकि मुस्लिम संगठनों ने पहले ही इन गिरफ्तारियों को अपना समर्थन दिया है। ऐसे में पार्टी कैडरों के बीच आगे की पुलिस कार्रवाई पर माकपा के लिए और अधिक संकट होने की संभावना है।

क्रांतिकारी मार्क्सवादी पार्टी ऑफ इंडिया की सेंट्रल कमिटी के सदस्य केएस हरीहरन ने कहा कि CPI(M) के कैडर का एक छोटा सा हिस्सा माओवाद की तरफ आकर्षित हुआ है। उन्होंने कहा, ‘विद्रोही दिमाग वाले युवा कम्युनिस्टों को वर्तमान पार्टी और उसके शासन के संदर्भ में लाना खासा मुश्किल होगा। इन दिनों एलडीएफ सरकार नीति या मुद्दों के दृष्टिकोण के मामले में किसी भी अन्य सरकार से अलग नहीं है। सरकार में वामपंथी पहचान की कमी को लेकर कैडरों का एक वर्ग असंतुष्ट है और ऐसे तत्वों के माओवादी के और प्रभावित होने की आशंका है।’

इसी बीच सीपीआईएम के पोलित ब्यूरो सदस्य एमए बेबी ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं के माओवाद की ओर प्रभावित होने की भयावह घटनाएं हो सकती हैं। उन्होंने कहा, ‘एसएफआई और डीवाईएफआई का अभी युवाओं के बीच काफी बोलबाला है। मगर ऐसी परिस्थितियां हो सकती हैं जिनमें कैडर पार्टी लाइन से भटक गए हों।’ एसएफआई और डीवाईएफआई, सीपीआईएम की छात्र ईकाई और युवा संगठन है। उन्होंने आगे कहा कि माओवादी लिंक के आरोप सच होने पर पार्टी इस पर गौर करेगी। वर्तमान में गिरफ्तार किए गए माओवादी लिंक सिर्फ पुलिस का संस्करण है।

[embedded content]

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

Delhi Police vs lawyers Live News Updates: रोहिणी कोर्ट के बाहर वकील ने की आत्मदाह की कोशिश, साकेत कोर्ट के बाहर वकीलों का हंगामा

Hindi News राष्ट्रीय Delhi Police vs lawyers Live News Updates: रोहिणी कोर्ट के बाहर वकील ने की आत्मदाह की कोशिश, साकेत कोर्ट के बाहर वकीलों का हंगामा Delhi Police vs lawyers Live News Updates: दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को तीस हजारी अदालत में वकीलों और पुलिसर्किमयों के बीच हुए टकराव […]