हिमाचलः साल में दो बार कर सकेंगे प्याज की खेती

digamberbisht

चंबा के कई गांवों में किसानों ने खरीफ प्याज या बरसाती प्याज की खेती करना शुरू कर दिया है। अब हमीरपुर में भी यह खेती होगी। इसके अलावा बिलासपुर, कांगड़ा, ऊना, मंडी के मैदानी इलाकों में भी इस खेती को किया जा सकता है।

नई तरकीब के जरिए अब किसान मार्च में प्याज के बीज की पनीरी देकर नवंबर के आखिर और दिसंबर में पहले सप्ताह में प्याज की फसल हासिल कर सकते है। इससे न केवल किसानों को फायदा होगा बल्कि वह बाहरी राज्यों से महंगे प्याज की खरीद से भी बच सकेगा।

ओमप्रकाश ठाकुर

हिमाचल प्रदेश के किसानों ने प्याज की फसल साल में दो बार लगाने की न केवल तकनीक विकसित की है बल्कि इसके जरिए अपनी आर्थिक स्थिति भी मजबूत करनी शुरू कर दी है। अभी तक केवल महाराष्ट्र में ही सालभर में प्याज की तीन फसलें उगाई जाती हैं। लेकिन हमीरपुर के नेरी में स्थित बागवानी व वानिकी महाविद्यालय के वैज्ञानिक डॉक्टर यशंवत सिंह परमार ने हिमाचल के मैदानी इलाकों में साल में प्याज की दो बार खेती करने की तरकीब ईजाद की है और इसे आम किसानों तक पहुंचाया है।

चंबा के कई गांवों में किसानों ने खरीफ प्याज या बरसाती प्याज की खेती करना शुरू कर दिया है। अब हमीरपुर में भी यह खेती होगी। इसके अलावा बिलासपुर, कांगड़ा, ऊना, मंडी के मैदानी इलाकों में भी इस खेती को किया जा सकता है।  अभी तक हिमाचल में प्याज की एक ही फसल की खेती होती है। किसान नवंबर महीने में प्याज के बीज की पनीरी देते हैं और उसे दिसंबर में खेतों में रोप देते हैं। इसके बाद अप्रैल और मई तक प्याज की फसल आ जाती है। किसान यही एक ही फसल उगा पाते हैं। लेकिन नई तरकीब के जरिए अब किसान मार्च में प्याज के बीज की पनीरी देकर नवंबर के आखिर और दिसंबर में पहले सप्ताह में प्याज की फसल हासिल कर सकते है। इससे न केवल किसानों को फायदा होगा बल्कि वह बाहरी राज्यों से महंगे प्याज की खरीद से भी बच सकेगा।

बागवानी व वानिकी महाविद्यालय में कार्यरत वैज्ञानिक दीपा शर्मा को केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय से बरसाती प्याज की खेती करने व इसे किसानों के बीच लोकप्रिय बनाने के लिए 20 लाख 43 हजार रुपए की एक परियोजना मंजूर हुई। इस परियोजना के तहत दीपा शर्मा व उनके दो अन्य सहयोगी वैज्ञानिकों राजीव रैना और संजीव बन्याल ने काम शुरू किया है और गांव चुवाड़ी, थलेल, परछोग,सुकरेनी और साच जैसे दर्जनों गावों में ढाई सौ के करीब किसानों को बरसाती प्याज लगाने की तरकीब बताई है। खासकर महिलाओं ने इस तरकीब को बखूबी अपनाया और बरसाती प्याज की खेती शुरू कर दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

लव राशिफलः कर्क राशि के लवर्स के लिए आज का दिन है खास, बयां कर दें अपने मन की बात

Hindi News Religion लव राशिफलः कर्क राशि के लवर्स के लिए आज का दिन है खास, बयां कर दें अपने मन की बात Love Horoscope Today (Aaj Ka Rashifal) 6 november 2019: मकर वाले जिससे आप अपनी लाइफ में चाहते हैं उससे प्यार का इजहार करेंगे। Horoscope Today: जानिए कैसा रहेगा […]