JNU छात्रों पर लाठी चार्ज को ज्यादातर यूजर्स ने बताया मजबूरी, बोल रहे- ऊपर से मिले थे आदेश

digamberbisht

पोल में हिस्सा लेने वाले 40 प्रतिशत लोगों ने कहा कि प्रोटेस्ट कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज दिल्ली पुलिस की बर्बरता है। वहीं 60 प्रतिशत लोगों का मानना है कि लाठी चार्ज पुलिस की मजबूरी थी।

JNU की प्रदर्शनकारी छात्रा को काबू करते दिल्ली पुलिसकर्मी।( PHOTO: REUTERS)

बढ़ी फीस के विरोध में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों ने सोमवार 18 नवंबर को कैंपस से संसद तक मार्च निकालने की कोशिश की थी। पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए छात्रों को सफदरजंग मकबरे के पास ही रोक लिया। पुलिस के लाठी चार्ज में कई छात्र घायल हुए। कुछ छात्रों के सिर फूटे तो कुछ के शरीर में फ्रैक्चर आए। दिल्ली पुलिस ने सैकड़ों छात्रों को हिरासत में भी लिया। प्रोटेस्ट कर रहे छात्रों पर पुलिस के लाठी चार्ज की कुछ तस्वीरें भी मीडिया में वायरल हुईं। इन तस्वीरों में कुछ छात्रों के खून से सने चेहरे भी दिखे।

प्रोटेस्ट कर रहे यूनिवर्सिटी के छात्रों पर पुलिस की लाठी चार्ज पर जनसत्ता.कॉम ने लोगों की राय मांगी। हमने फेसबुक के जरिए पोल कराया कि JNU के प्रदर्शनकारि‍यों पर लाठी चार्ज पुलि‍स की बर्बरता है या मजबूरी थी। इस पोल में हजारों फेसबुक यूजर्स ने भाग लिया। खबर लिखे जाने तक करीब 15 हजार लोग अपनी राय रख चुके थे।

इस पोल में हिस्सा लेने वाले 40 प्रतिशत लोगों ने कहा कि प्रोटेस्ट कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज दिल्ली पुलिस की बर्बरता है। वहीं 60 प्रतिशत लोगों का मानना है कि लाठी चार्ज पुलिस की मजबूरी थी।

लाठी चार्ज को मजबूरी बताने वाले यूजर्स का कहना है कि पुलिस की भी मजबूरी होती है। उसे अपने ऊपरवालों के ऑर्डर्स फॉलो करने पड़ते हैं। कुछ ने ये भी लिखा कि पुलिस को इस तरह का व्यवहार नहीं करना चाहिए..कल को उनके बच्चों को भी इस तरह के संस्थान की जरूरत पड़ेगी।

[embedded content]

छात्रों पर पुलिस द्वारा लाठी चार्ज पर सोशल मीडिया दो हिस्सों में बंटा दिखा। कई यूजर्स लिख रहे हैं कि, ‘किसी भी संस्थान की फीस नहीं बढ़नी चाहिए..शिक्षा को मुफ्त करने की तरफ देखना चाहिए। ऐसे में अगर छात्र फीस बढ़ोतरी का विरोध करें तो उनके साथ इस तरह का व्यवहार निंदनीय है।’

वहीं बहुत से यूजर्स ऐसे भी हैं जो छात्रों पर लाठी चार्ज के समर्थन में हैं। इन लोगों का कहना है कि पुलिस ने जो किया वह बहुत अच्छा किया। ऐसे कुछ यूजर्स का ये भी कहना है कि जेएनयू के छात्र नियमों की धज्जियां उड़ा रहे थे इसलिए उनकी पिटाई होनी ही थी।

किसी का सिर फूटा तो किसी का टूटा पैर, JNU छात्रों पर पुलिस के लाठी चार्ज की तस्वीरें वायरल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

<!–

–>

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

Bhojpuri Gana: 1 करोड़ व्यूज के करीब पहुंचा Pawan Singh-काजल राघवानी का यह भोजपुरी गाना, फैंस खूब कर रहे एन्जॉय

Hindi News मनोरंजन Bhojpuri Bhojpuri Gana: 1 करोड़ व्यूज के करीब पहुंचा Pawan Singh-काजल राघवानी का यह भोजपुरी गाना, फैंस खूब कर रहे एन्जॉय Bhojpuri Ke Gane: पवन सिंह संग काजल राघवानी हाल ही में मैंने उनको सजन चुन लिया में नजर आईं थीं। वहीं पवन सिंह की फिल्म ‘शेर […]