दिल्ली की सड़कों पर 4 से 15 नवंबर के बीच फिर से ऑड-ईवन फॉर्मूला, छुट्टी के दिन छूट मिलेगी

digamberbisht

नई दिल्ली. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि इस बार फिर से प्रदूषण नियंत्रित रखने के लिए 4 से 15 नवंबर तक ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू होगा। छुट्टी के दिन इसमें छूट मिलेगी। दिल्ली सरकार हर वार्ड में दो-दो एन्वायरमेंट मार्शल तैनात करेगी।पेड़ लगाने के लिए एक नंबर जारी करेंगे। प्रदूषण से निपटने के लिए 7 प्वाइंट का एक्शन प्लान तैयार किया गया है।

केजरीवाल ने यह भी कहा कि 15 नवंबर के बाद जब पराली का प्रदूषण कम हो जाएगा। तब दो प्लान (दिवाली और ऑड-ईवन) हटाए जाएंगे। इसके बाद दिल्ली में विंटर एक्शन प्लान लागू रहेगा। दिल्ली के लोगों कोमास्क बांटे जाएंगे।

‘इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी लाएंगे’
केजरीवाल ने कहा, ‘‘दिल्ली में सरकारी बसों के रूट में बदलाव करके फ्रिक्वेंसी बढ़ाई जाएगी। नई बसें आएंगी। इससे सड़कों पर वाहनों का दवाब कम होगा। बस स्टैंड को मॉडर्न बनाया जाएगा। इन पर पता चलेगा कि बस कितनी देर में आएगी। जैसा कि मेट्रो में होता है। इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी अपनाई जाएगी। 2021 तक जो नई बसें आएंगी, वे सभी इलेक्ट्रिक होंगी।’’

नए ट्रैफिक नियमों के तहत चालान पर केजरीवाल ने कहा, ‘‘सब चाहते हैं कि ट्रैकिक सुधरे। इससे कई लोगों की जान जाती हैं। पॉल्यूशन सेंटर्स पर लंबी लाइनें लग रही हैं। हम नए नियमों की समीक्षा कर रहे हैं। अगर लोगों को कोई परेशानी हो रही है, तो सुधार करेंगे। एक बात तो साफ है कि नए नियमों से ट्रैफिक में सुधार आया है। पिछले दो ऑड-ईवन से हमें जो सीख मिली है। उसे इस बार शामिल किया जाएगा।’’

2016 में ऑड-ईवन व्यवस्था लाई गई थी

दिल्ली सरकार ने जनवरी 2016 और अप्रैल 2016 में ऑड-ईवन व्यवस्था लागू की थी।राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में कुल प्रदूषण में 25% से 30% हिस्सा वाहनों से निकलने वाले धुएं का है।

DBApp

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Arvind Kejriwal odd-even formula again applied November Updates

और ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

भारत की आर्थिक विकास दर अनुमान से ज्यादा कमजोर, 2019-20 में 7% रहेगी

वॉशिंगटन.अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा कि कॉरपोरेट और रेग्युलेटरी अनिश्चितताओं, कुछ गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं की कमजोरीके कारण भारत की आर्थिक विकास दर अनुमान से अधिक कमजोर हुई। गुरुवार को आईएमएफ ने आर्थिक विकास दर के अनुमान में 0.3% की कटौती करते हुए वित्त वर्ष 2019-20 में 7% रहने की […]