एपल 10 महीने बाद फिर 1 लाख करोड़ डॉलर पर पहुंची, फिर भी माइक्रोसॉफ्ट से 3000 करोड़ पीछे

digamberbisht

बिजनेस डेस्क. एपल के शेयर में बुधवार को 3% तेजी आने से कंपनी का मार्केट कैप 3,100 करोड़ डॉलर बढ़कर 1.01 लाख करोड़ डॉलर (72 लाख करोड़ रुपए) हो गया। एपल पिछले साल अगस्त में पहली बार 1 लाख करोड़ डॉलर (एक ट्रिलियन डॉलर) पर पहुंची थी। लेकिन, शेयर में गिरावट की वजह से नवंबर में नीचे आ गई। यानी 10 महीने बाद एपल फिर से ट्रिलियन डॉलर कंपनी बन गई। हालांकि, माइक्रोसॉफ्ट से अभी भी 3,000 करोड़ डॉलर पीछे है। माइक्रोसॉफ्ट का मार्केट कैप 1.04 लाख करोड़ डॉलर है। वह दुनिया की सबसे ज्यादा वैल्यूएशन वाली कंपनी है।

किसी कंपनी का मार्केट कैप उसके शेयर की कीमत और शेयर संख्या को गुणा करके निकाला जाता है। इसलिए शेयर में उतार-चढ़ाव के साथ मार्केट कैप में कमी-बढ़ोतरी होती रहती है।

एपल के शेयर में तेजी की वजह क्या?
कंपनी ने मंगलवार को नया आईफोन, एपल वॉच और आईपैड लॉन्च किए थे। आईफोन एक्सआर के मुकाबले 50 डॉलर सस्ता आईफोन 11 भी पेश किया। एनालिस्ट के मुताबिक आईफोन 11 की सर्विसेज उसे बेहतर बनाएंगी। इससे कंपनी की बिक्री बढ़ने की उम्मीद है।

मार्केट कैप में दुनिया की 3 बड़ी कंपनियां

कंपनी मार्केट कैप (रुपए)
माइक्रोसॉफ्ट 74 लाख करोड़
एपल 72 लाख करोड़
अमेजन 64 लाख करोड़

1 ट्रिलियन डॉलर तक अब तक कितनीकंपनियां पहुंचीं?

कंपनी पहली बार कब पहुंची
पेट्रो चाइना 2007
एपल 2018
अमेजन 2018
माइक्रोसॉफ्ट 2019

एपल का मार्केट कैप भारतीय कंपनी टीसीएस से 9 गुना

भारत में इस वक्त टीसीएस मार्केट कैप में पहले नंबर पर है। कंपनी का वैल्यूएशन 7.97 लाख करोड़ रुपए है। रिलायंस इंडस्ट्रीज 7.76 लाख करोड़ रुपए के मार्केट कैपिटलाइजेशन के साथ दूसरे नंबर पर है।

DBApp

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

एपल के लॉन्च इवेंट में सीईओ टिम कुक।

और ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

क्या Ola और Uber से कम हुई ऑटो सेक्टर में बिक्री? वित्त मंत्री की थ्योरी की हवा निकालते आंकड़े

Hindi News अपडेट क्या Ola और Uber से कम हुई ऑटो सेक्टर में बिक्री? वित्त मंत्री की थ्योरी की हवा निकालते आंकड़े मारुति सुजुकी इंडिया के सेल्स एंड मार्केटिंग प्रमुख शशांक श्रीवास्तव ने कहा कि ओला और उबर ऑटो इंडस्ट्री में मंदी का ठोस कारण नहीं है। उन्होंने मंदी के […]