वायुसेना 83 लड़ाकू विमान का ऑर्डर हॉल को देगी, लागत 45000 करोड़ रुपए

digamberbisht

नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना अगले दो सप्ताह में हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को 45,000 करोड़ रुपए का ऑर्डर देगी। इसके बाद एचएएल इस राशि से वायुसेना को 83 लड़ाकू विमान बनाकर देगी। इस कदम से रक्षा उत्पादन के सेक्टर को मजबूती मिलेगी।

सूत्र के मुताबिक इस डील की 65 प्रतिशत राशि देश में ही रहेगी। इसके उत्पादन से देश में रोजगार के नए विकल्प भी पैदा होंगे। दरअसल, वायुसेना ने दो साल पहले 83 लड़ाकू विमानों का टेंडर जारी किया था। मगर सरकार और वायुसेना के बीच इसकी कीमत को लेकर मामला अटक गया था। हॉल के द्वारा बताई गई कीमत ज्यादा थी।

रक्षा मंत्रालय की समिति ने कीमत में किया संशोधन

रक्षा विभाग के वरिष्ठ सूत्र ने शुक्रवार को बताया कि रक्षा मंत्रालय में संसाधनों की कीमतें तय करने वाली समिति ने 83 लड़ाकू विमानों की कीमत 45000 करोड़ रुपए तय की है। पहले हॉल ने इस काम के लिए 50 हजार करोड़ रुपए की मांग की थी।

इस एयरक्राफ्ट का डिजाइन डीआरडीओ ने बनाया

रिपोर्ट के मुताबिक, लाइट कॉम्बेट एयरक्राफ्ट (एलसीए) तेजस लड़ाकू विमान का एडवांस वर्जन हैं। इसका डिजाइन रक्षा शोध और विकास संस्थान ने तैयार किया है। पिछले साल डीआरडीओ प्रमुख जी.सतीश रेड्डी ने वायुसेना और रक्षा मंत्रालय के सामने फाइनल ऑपरेशनल क्लियरेंस (एफओसी) प्रमाणपत्र दिया था।

पहले चरण में दिए जाएंगे 40 एयरक्राफ्ट

सूत्र ने बताया कि दो साल पहले रक्षा मंत्रालय ने इसके लिए 50,000 करोड़ रुपए की अनुमति दी थी मगर समिति ने इसका मूल्यांकन करके इसकी कीमत 45 हजार करोड़ रुपए तय की।फिलहाल मांग के मुताबिक हॉल अगले 36 महीनों में पहला एलसीए मार्क 1ए प्लेन वायुसेना को देगा। इसमें नई तकनीक और नया रडार सिस्टम होगा। पहले चरण में करीब 40 एयरक्राफ्ट मुहैया करवाए जाएंगे।

DBApp

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

DRDO: HAL to receive Rs 45,000 crore orders for 83 LCA fighters

पूरी खबर के लिए यहां क्लिक करें

Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

महिलाओं के मुफ्त सफर के प्रस्ताव पर कोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा- मेट्रो घाटे का सौदा साबित होगी

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को दिल्ली सरकार से कहा कि यदि दिल्ली मेट्रो में महिलाओं को फ्री सफर करने की इजाजत दी जाती है तो इससे डीएमआरसी घाटे का सौदा साबित होगी। जस्टिस अरुण मिश्रा और दीपक गुप्ता की बेंच ने कहा कि आप (दिल्ली सरकार) मेट्रो में […]