1500 रु. महीने में खिचड़ी बनाने वाली बबिता बनीं करोड़पति, बोलीं- मिड डे मील का काम नहीं छोड़ूंगी

digamberbisht

उमेश कुमार उपाध्याय/ टीवी डेस्क. अमरावती महाराष्ट्र की बबिता सुभाष ताड़े ने अमिताभ बच्चन के शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ (केबीसी 11) में एक करोड़ रुपए जीते। वे स्कूल में मिड डे मील बनाने का काम करती हैं। दैनिक भास्कर से खास बातचीत में उन्होंने अपने संघर्ष, परिवार, केबीसी की तैयारी और वहां तक पहुंचने तक की पूरी कहानी बताई।

  1. मैं अमरावती में स्कूली बच्चों के लिए मिड डे मील में खिचड़ी पकाती हूं। मैंने 2002 में इसकी शुरुआत की थी। तब मात्र स्कूल में मात्र 30 बच्चे थे। अब 450 हैं। शुरुआत में मुझे महज 100 रुपए ही मिल रहे थे। 2011-12 से 1000 रुपए मिलने लगे। इस साल अप्रैल में 1500 रुपए मिलने शुरू हुए। चूंकि मेरे पति 25 साल से इसी स्कूल में प्यून हैं। उन्हें 25-26 हजार रुपए मिलते हैं, जिससे हमारा घर चल जाता है।

  2. बचपन से ही पढ़ाई-लिखाई अच्छे से करती आई हूं। पढ़ाई के लिए काफी संघर्ष किया है, इसलिए इसका महत्व समझती हूं। जब एम.ए. सेकंड ईयर में थी, तब मेरी शादी हो गई। इसके बाद पोस्ट ग्रैजुएशन पूरी की। मेरे पति 12वीं तक पढ़े हैं, क्योंकि आगे पढ़ाई करने के लिए सपोर्ट नहीं मिला। मुझे एक बेटा और एक बेटी है। बेटी ग्रैजुएशन कर रही है और बेटा 10वीं कक्षा में है।

  3. मैंने ‘केबीसी’ के सारे सीजन देखे हैं। इसकी तैयारी के लिए मराठी न्यूज पेपर और समाचार चैनल देखती आई हूं। जहां से जानकारी मिलती थी, वह पढ़ती थी। लेकिन रजिस्ट्रेशन नहीं कर पा रही थी, क्योंकि मेरे पास फोन नहीं था। 2008 के बाद मेरे घर टीवी आई। पिछले साल मैंने फोन लिया, तब रजिस्ट्रेशन करा पाई। पर सिलेक्शन नहीं हो पाया था।

  4. मेरे पिताजी राजकीय निवास में खानशामा थे। बड़े-बड़े अधिकारियों के लिए भोजन बनाते और रूम की देखभाल करते थे। मैं वहां उनको हेल्प करती थी और समय मिलने पर रात में पढ़ाई करती थी। वहां शूट-बूट पहनकर बड़े-बड़े अधिकारी आते थे। उनका एटीट्यूड देखकर अच्छा लगता था। उन्हें देखकर सोचती थी कि मैं भी पढ़-लिखकर इनके जैसी अधिकारी बनूंगी।

  5. ‘केबीसी’ में जीत का श्रेय पति को दूंगी। उन्होंने मुझे कभी पढ़ाई करने से नहीं रोका। वो जानते हैं कि मैं चीजों को हैंडिल कर लूंगी। इसलिए सपोर्ट करते रहे। उनके सपोर्ट के बगैर यह सब होता भी नहीं। वे मेरे काम का सम्मान करते हैं और मैं भी करती हूं।

  6. अमिताभ बच्चन बहुत महान हैं। मैं तो सोच भी नहीं सकती थी कि उनसे मिल पाऊंगी। बहुत अच्छे हैं वे। वे लोगों के लेवल पर जाकर बात करते हुए उन्हें कंफर्टलेबल महसूस कराते हैं। यह उनकी बहुत अच्छी आदत है।

  7. मेरे ससुराल में एक शिवालय है, वह खराब हो चुका है। जीत की रकम में से कुछ पैसा खर्च कर उसे बनवाऊंगी। छोटा है, पर कितना खर्च लगेगा, यह पता नहीं। बच्चों को अच्छी पढ़ाई करवाऊंगी। उनकी लाइफ सिक्योर करना चाहूंगी। इसके बाद मेरे पति जो कहेंगे, वह करूंगी। क्योंकि वे मुझसे अच्छा मैनेजमेंट करते हैं। उन्होंने पुरानी बाइक ली है। उनके लिए नई बाइक लूंगी। हां, मिड-डे मिल का काम कभी नहीं छोड़ूंगी।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

      KBC 11: Winner Babita Subhash Tade Says She Will Not Left Mid Day Meal Job
      KBC 11: Winner Babita Subhash Tade Says She Will Not Left Mid Day Meal Job
      KBC 11: Winner Babita Subhash Tade Says She Will Not Left Mid Day Meal Job
      No posts found.
      Uttarakhand News Latest and breaking Hindi News , Uttarakhand weather, Places to visit in Uttarakhand जानने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें ।
Next Post

CJI रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली सुप्रीम कोर्ट की पूर्व महिला कर्मचारी के खिलाफ केस बंद

Hindi News राष्ट्रीय CJI रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली सुप्रीम कोर्ट की पूर्व महिला कर्मचारी के खिलाफ केस बंद गौरतलब है कि 31 साल के नवीन कुमार ने सुप्रीम कोर्ट में नौकरी दिलाने के बहाने महिला पर 50,000 रुपये लेने का आरोप लगाया था। चीफ जस्टिस […]